Home Fashion पेरेंट्स(Parents) द्वारा बच्चों को डांटना या पीटना सही है या गलत ?

पेरेंट्स(Parents) द्वारा बच्चों को डांटना या पीटना सही है या गलत ?

देखिये इस पुरे विश्व में ऐसे कोई भी पेरेंट्स नहीं होंगे जो अपने बच्चों के लिए कुछ बुरा सोचते हों,वो हमेशा अपने बच्चों के लिए अच्छा ही सोचते हैं और चाहते हैं की उनका बच्चा कुछ बड़ा काम करे और एक सफल इंसान बने|इसीलिए पेरेंट्स हमेशा अपने बच्चों का मार्गदर्शन करते रहते हैं जैसे की तुम्हे ये करना चाहिए या ये नहीं करना चाहिए,तुम्हे ये करियर(Career) चुनना चाहिए या ये नहीं चुनना चाहिए|पर जब बच्चे अपने माता-पिता की बात नहीं मानते हैं तो वो अपने बच्चों को डांटते हैं या पीटते भी हैं|पर क्या पेरेंट्स द्वारा बच्चों को डांटना या पीटना सही है ? तो इस पोस्ट(Post) में इसी विषय पर विचार किया गया है|

जब बच्चों की उम्र में विकास होने लगता है तो उनकी आदतों में बदलाब होने लगता है,जैसे जब बच्चा छोटा होता है लगबग 5-10 साल का तो उसे अपने पेरेंट्स(Parents) की सारी बातें अच्छी लगती हैं,पर जब बच्चे की उम्र 14-18 साल के आस-पास आती है तो उन्हें अपने सामने किसी की भी बात अच्छी नहीं लगती हैं|और फिर वो अपने पेरेंट्स की कोई भी बात नहीं मानते हैं|और जब बच्चों के द्वारा ज्यादा हद हो जाती है तो उनके माता-पिता उन्हें डांटते या पीटते हैं जिससे वो सही रास्ते पर आ जाएँ|पर बच्चों को डांटना या पीटना सही नहीं है,क्यूंकि ये उम्र होती ही ऐसी है जिसमें बच्चों को सही या गलत का ज्ञान नहीं होता है|पर पेरेंट्स को भी दिन भर इतने काम करने होते हैं और फिर जब वो अपने बच्चों का खराब बिहेवियर देखते हैं तो उन्हें गुस्सा आ जाता है,और फिर वो उन्हें डांटते हैं या पीटते भी हैं|

पर बच्चों के लिए ये सही नहीं है इससे वो आपसे और दूर होते जाते हैं इसीलिए अगर बच्चे कोई गलती करते हैं तो सबसे पहले उन्हें प्यार से समझाएं और उनके साथ फ्रेंडली(Friendly) होकर बात करें|क्यूंकि जब आप अपने बच्चों के साथ फ्रेंडली रहते हैं या उनके दोस्त बनकर रहते हैं तो वो आपसे अपनी हर बात शेयर(Share) करते हैं|और जब आप और आपके बच्चे आपस में अपनी हर बात शेयर करते हैं तो इससे आपके बीच कभी भी मनमुटाव नहीं होता है,और जब बच्चों और माता-पिता के बीच मनमुटाव होगा ही नहीं तो बच्चे कोई गलती करेंगे ही नहीं और फिर आपको अपने बच्चों को कभी डांटने या पीटने की जरूरत पड़ेगी ही नहीं |

इसीलिए पेरेंट्स और बच्चों को हमेशा आपस में दोस्त की तरह रहना चाहिए|

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

Archives